प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत सतना जिला में बनाए गए 8 घर लापता।

प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मध्यप्रदेश के सतना जिले में बनाए गए आठ घर लापता बताया जाता है। जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह हैं।
पिछले सप्ताह में ही मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह गरीबों को घर देने की गिरी प्रवेश की वस्तुतः अध्यक्षता की थी।
यह लापता घर 2017-18 कहां है। सूत्रों की मानें तो कहा गया है कि यह घर कभी बनाए नहीं गए थे। यह बात सतना जिला के रहिकवारा पंचायत की है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के डिजिटल करण होने के बाद भी घूसखोरी खत्म नहीं हो रहा है। रिश्वत लेने वाले कानून से बचने के नए-नए तरीके ढूंढते रहते हैं।
यह बात मध्यप्रदेश के सतना जिले के रहिकवारा पंचायत की है। जो कागजों पर बना घर दिखाया गया है। लेकिन वास्तव में यह घर कभी बना ही नहीं था। 8 घरों का पैसा वहां के सरपंच डकार गया।
हालांकि रहिकवारा पंचायत के सरपंच के खिलाफ आईपीसी के तहत प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी। अब देखना यह है कि इसके खिलाफ क्या करवाई होती है। कागजों पर ही घर बनाई जाती है और गरीबों के पैसे खा जाया करते हैं पंचायत के सरपंच और मुखिया मिलकर पैसे खा जाते हैं।
सबसे बड़ी बात तो यह है कि मध्य प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि 2022 तक हर घर में बिजली और प्रत्येक गरीब के पास अपना घर होगा। लेकिन सोचने वाली बात तो यह है कि जिस राज्य में भारतीय जनता पार्टी का शासन है वहीं पर ऐसी घटनाएं हो रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का यह सपना था कि 2022 तक प्रत्येक घर में बिजली और प्रत्येक गरीब के पास अपना घर होगा।
सरकारी योजनाओं में अगर इस तरह की गड़बड़ी होती रही तो गरीबों को लाभ की जगह हानि होना निश्चित है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के डिजिटल करने के बावजूद भी रिश्वत लेने वाले ले ही लेते हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ