अग्नीपथ पर महासंग्राम शुरू,

कई राज्यों में हिंसक विरोध प्रदर्शन के बाद सरकार ने तीनों सेनाओं में भर्ती के लिए आयु सीमा बढ़ाकर 23 साल की।
सेना में संविदा पर 4 साल के लिए अग्नि वीरों की भर्ती योजना, अग्नीपथ के खिलाफ युवाओं के विरोध प्रदर्शन ने वीरवार को देशभर में हिंसक रूप ले लिया। बिहार में प्रदर्शनकारियों ने भभुआ और छपरा स्टेशन पर ट्रेन की बोगियों में आग लगा दी और भाजपा विधायक की गाड़ी पर हमला कर दिया।
उत्तर प्रदेश में भी जगह-जगह प्रदर्शनकारियों के रेल पटरी ऊपर आने से कई ट्रेनों का संचालन प्रभावित हुआ। हरियाणा में सेना भर्ती की तैयारी कर रहे एक युवक ने आत्महत्या कर ली। पलवल में भी जमकर हंगामा हुआ। राजस्थान मध्य प्रदेश में भी प्रदर्शनकारियों ने जमकर हंगामा किया।
युवाओं के भारी विरोध को देखते हुए मोदी सरकार ने वीरवार देर रात बड़ा फैसला लिया। सरकार ने अग्निपथ योजना में वर्ष 2022 की भर्ती के लिए अधिकतम आयु सीमा 21 साल से बढ़ाकर 23 साल कर दी है। रक्षा मंत्रालय ने कहा कि पिछले 2 सालों में कोई भर्ती नहीं होने के कारण यह फैसला लिया गया है। सरकार ने मंगलवार को अग्निपथ योजना की घोषणा करते हुए कहा था कि सभी नई भर्तियों के लिए आयु 17 से 21 साल के बीच होनी चाहिए।
बिहार में युवाओं के विरोध प्रदर्शन का सबसे ज्यादा असर दिखा जहां प्रदर्शनकारियों ने कई ट्रेनों में आग लगा दी। हरियाणा में हुए प्रदर्शन के दौरान सरकारी संपत्तियों को काफी नुकसान पहुंचा।
केंद्र सरकार ने कहा युवाओं के लिए खुलेगा अवसरों के द्वार।
केंद्र सरकार ने एक स्पष्टीकरण जारी कर कहा कि नया मॉडल न केवल सशस्त्र बलों के लिए नई क्षमताएं लाएगा बल्कि निजी क्षेत्र में भी युवाओं के लिए अवसर के द्वार खोलेगा। केंद्र ने योजना को लेकर जताई जा रही चिंताओं को दूर करने के लिए मिथक बनाम सच दस्तावेज जारी किया।

कई जगह पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। वही रोहतक में गत 2 साल से सेना में भर्ती की तैयारी कर रहे सचिन नामक युवक ने अग्निपथ के विरोध में आत्महत्या कर ली। उत्तर प्रदेश में जगह-जगह प्रदर्शनकारियों के रेल पटरी ऊपर आ जाने से करीब 34 ट्रेनों का संचालन रद्द करना पड़ा। राजस्थान दिल्ली एनसीआर जम्मू मध्य प्रदेश में भी अग्नीपथ के खिलाफ युवाओं ने विरोध प्रदर्शन किया।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ